बिजली को लेकर उपभोक्ताओं में आक्रोश ,गर्मी से हाल बेहाल

रक्सौल (रक्सौल डेली )
images (1) रक्सौल व् आस पास की सीमाई इलाके में बिजली को लेकर उपभोक्ताओं में आक्रोश ब्याप्त है .शहर समेत ग्रामीण क्षेत्रों में चौबीस घंटे में महज चार घंटे बिजली रहा रही है पिछले कई महीनों से बिजली की आपूर्ति कम होने से लोगों को दैनिक कार्यों को करने में काफी परेशानी हो रही है .सबसे ज्यादा परेशानी बहुमंजिला मकानों में रह रहे लोगों को पानी की समस्या को लेकर हो रही है बिजली नहीं रहने की वजह से वाटर टैंक खाली हो जाता है और मजबूरन ग्राउंड फ्लोर स्थित हैण्डपम्प का सहारा लेना पद रहा है वही स्कूली बच्चों को होमवर्क करने में काफी परेशानी हो रही है. उपभोक्ता रजनीश प्रियदर्शी ,अमित कुमार ,सुशिल कुमार ,हरिनरायन प्रसाद , अंजय हलवासिया बताते है की बिजली के न रहने से घरों में लगे बल्ब पंखे ,पानी का मोटर बिजली उपकरण शोभा की वस्तु बन के रह गयी है .बिजली की समस्या से पुरे शहरवासी त्राहिमाम है इसको लेकर मंगलवार को स्थानीय विधायक डॉ अजयकुमार सिंह ने अधिकारिओं के साथ एक बैठक की बैठक में स्थानिये लोगों ने बिजली बिभाग के पार्टी आक्रोश जताया रक्सौल सबडिविजन को 25 मेगावाट बिजली की आवश्यकता है लेकिन मात्र पांच से छह मेगावाट ही बिजली मिल रही है .ओउरे रक्सौल सब डिविजन में तीस हजार उपभोक्ता है इस्न्मे रक्सौल शहर में दस हजार  ,ग्रामीण में पांच हजार ,व् रामगढ़वा में आठ हजार व् सुगौली में सात हजार शामिल है . उपभोक्ताओं का कहना है कि अगर बिजली आपूर्ति को सुचारू नहीं किया गया तो आन्दोलन किया जायेगा .रक्सौल बिजली बिभाग के सहायक अभियंता चन्द्रकांता नायक का कहना है कि ऊपर से ही खपत के अनुसार बिजली आपूर्ति नहीं की जा रही है जबकि रक्सौल सबडिविजन में कोई समस्या नहीं है जितनी बिजली की आपूर्ति हो रही उसी में पुरे रक्सौल और आसपास के इलाकों में बिजली आपूर्ति की जा रही है ,मोके पर भरत प्रसाद गुप्ता ,मनोज शर्मा ,पन्नालाल प्रसाद ,महेश अग्रवाल ,राजकिशोर प्रसाद ,उर्फ़ भगत प्रसाद ,राजकुमार गुप्ता ,कन्हिया सर्राफ सहित सभी उपभोक्ता उपस्थित थे .

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>