गंदगी को हराने की जंग ठानी शहर के युवकों ने

एक ओर जहाँ भागदौड़ की919470407701-1449148838 जिंदगी में सभी लोग आराम फरमाना चाहते है वहीँ शहर के कुछ युवकों ने छुटी के दिन शहर से कूड़ा -कचड़ा हटाने के लिय संघर्ष किय जा रहे हैं .उनका अभियान पिछले 75 सप्ताह से जारी है .युवकों के इस नेक काम में आगे आने से मुहल्ले की स्तिथि अब बेहतर होने लगी है .लगातार सफाई अभियान के चलते गली व मुहल्ले अब साफ़ सुथरी दिखने लगी है .
नगरपरिषद होने के चलते रक्सौल में यूँ तो कई सफाई कर्मी बहाल है .बावजूद इसके शहर की साफ सफाई ठीक से नहीं हो पाती .जबकि छुट्टी के दिन सफाईकर्मीयों के नहीं रहने से स्तिथि और भी बदतर हो जाती है .ऐसे में शहर स्थित वार्ड नॉ 12 के युवकों ने सफाई का काम अपने जिम्मे ले लिया है .छुट्टी के दिन सभी सडकों की सफाई कर कचरे के ढेर को व्यवस्थित जगह पर पहुंचा देते है हालाँकि इस काम में वार्ड नंबर 12 के वार्ड आयुक्त भी इनके साथ है .सफाई अभियान को सुचारू ढंग से चलाने के लिए युवकों की टोली को अपनी ही जेब से कुछ पैसे भी निकालने पड़ते है .इन्हें इसका डर नहीं सताता .इन्हें तो बस शहर की सफाई की चिंता हमेशा रहती है .इस अभियान के मुखिया सुरेश कुमार ने बताया कि 75 सप्ताह से इसे चलाया जा रहा है और भविष्य में इसे और सक्रिय बनाया जायेगा .वही अंजय हलवसिया का कहना है कि तन ,मन, व धन से हम मुहल्ले की सफाई करते रहेंगे चाहे जाड़ा हो या गर्मी हमे इसका ख्याल नहीं रहता जबकि संदीप कुमार का कहा कि इस अनूठे काम के लिए जो भी क्षति हो इस कार्य को अंजाम तक पहुंचाएंगे .गंदगी को जड़ से मिटाने में शामिल विकास ,धीरज ,अंकित,मोहित,सुमित हरि मस्करा, रानू……………………….ने एक साथ कहा कहा हर कीमत पर हम गंदगी से जंग करने को तैयार है .बहरहाल युवकों के जोश को देखकर ऐसा प्रतीत होता है कि छुट्टी के दिन भी सफाई काम निर्बाध गति से चलने से सभी को लाभ मिल रहा है .इस अभियान को देख अगल बगल के लोगों ने भी अपनी गली व मुहल्ले को साफ रखने का मन बनाने लगे है .कूड़े कचड़े के ढेर से मुक्ति के लिए रक्सौल की जनता ने मन बना लिया है .नगरपरिषद की सफाई व्यवस्था से परेशान लोगों ने अब इस कार्य को अपने हाथ में लेने की तैयारी में जुट गये है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>